Princely India

Indian rulers adapted to the new British imperial regime, just as they had to that of the Mughals. Politically emasculated, they were recognised only as ‘princes’ or ‘native chiefs and rulers’, rather than ‘kings’. Yet, they continued to maintain order within their states, tax their subjects, allocate revenue and patronise cultural activities in a way that fused traditional rajadharma (royal duty) with western models of governance.

Outside princely India, the maharajas were often viewed as exotic beings who epitomised India’s role as the jewel in Britain’s imperial crown. The princes found themselves in an almost impossible position. They were obliged to live within traditional boundaries and appear as the stereotypical ‘maharaja’ when required, but educated by English tutors, they were also encouraged to think along western lines and behave as English gentlemen. Some refused to countenance these conflicting demands, but most accepted the dominant British model of modernity.

शाही भारत

भारतीय शासक, नए अंग्रेजी शाही हुकूमत के अनुरूप बन गए| बिल्कुल वैसे, जैसे उन्होंने मुगलों को अपनाया था| राजनीतिक रूप से शक्तिहीन, उन्हें ‘राजा’ की जगह अब केवल ‘रजवाड़े’ या ‘देशी प्रधान अथवा शासक’ के रूप में पहचाना जाता था| फिर भी, अपने राष्ट्र के भीतर वे अपनी व्यवस्था बनाए रखते थे| अपनी प्रजा से कर लेते थे, महसूली नियत करते थे एवं सांस्कृतिक क्रियाओं को प्रश्रय देते थे| इसके माध्यम से वे पारंपरिक राजधर्म (शाही धर्म) को शासन के पश्चिपी मॉडल के साथ जोड़ते थे|

शाही भारत के बाहर, महाराजाओं को विदेशज प्राणी के रूप में देखा जाता था| वे ब्रिटेन के शाही राजमुकुट में भारत के एक रत्न होने की भूमिका का प्रतीक थे| रजवाड़ों ने अपने आप को प्रायः एक असंभव अवस्था में पाया| वे पारंपरिक सीमाओं के भीतर रहने के लिए बाध्य थे| परंतु, जब आवश्यकता हो तो उनको एक पारंपरिक ‘महाराजा’ की तरह पेश आना पड़ता था| साथ ही, अंग्रेजी शिक्षक उनको पढ़ाते थे| उनको प्रोत्साहित किया जाता था कि वे पश्चिमी विचार धारा के अनुसार सोचें एवं एक अंग्रेज सज्जन की तरह व्यवहार करें| कुछ ने इन परस्पर-विरोधी मांगों का प्रतिपालन करने से मना कर दिया| यद्यपि, अधिकांश ने आधुनिकता के इस प्रधान अंग्रेजी नमूने को स्वीकार कर लिया|